शनि आमावस्या की पूजा, दान और मंत्र

शनि आमावस्या की पूजा, दान और मंत्र
शनि आमावस्या की पूजा, दान और मंत्र

शनि देव को नौ ग्रहों में न्याय का देवता माना जाता है।इस बार ज्येष्ठ मास की अमावस्या 3 जून 2019 को है। जिसे शनि जंयती के रूप में भी मनाया जाएगा। इस बार 3 जून 2019 की तिथि खास है क्योंकि आज के दिन शनि अमावस्या, सोमवती अमावस्या और वट सावित्रि व्रत तीनों ही हैं। शनि आमावस्या का दिन साढ़ेसाती , शनि की ढैया या महादशा से पीड़ित लोगों को राहत पहुंचाने के लिए एक विशेष दिन माना जाता है। अगर आप भी शनि देव की साढेसाती , ढैया या महादशा से परेशान है तो इस दिन शनिदेव की विधिवत पूजा करने से आप लाभ प्राप्त कर सकते हैं और अगर आपको यह नहीं पता है कि शनि अमावस्या के दिन कैसे पूजा करें, मंत्र और क्या दान करें तो आज हम आपको इन सब के बारे में बताएंगे। जानते हैं शनि आमावस्या की पूजा और दान और मंत्र के बारे में-

शनि अमावस्या पर इन चीजों का करें दान

1. शनि देव को काली चीजें अत्याधिक प्रिय है इसलिए शनि आमावस्या के दिन काली उड़द , काले तिल व तेल का दान अवश्य करें।

2. अगर आप किसी ऐसे रोग से पीड़ित है। जो ठीक नहीं हो रहा तो शनि अमावस्या के दिन लोहे के कटोरे में सरसों के तेल में अपना चेहरा देखकर दान करें ।

3.अगर आप शनि की साढ़ेसाती ,ढैय्या और महादशा से परेशान हैं तो किसी शनि मंदिर में किसी पीपल के पेड़ के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलांए और सरसो का तेल किसी निर्धन को दान दें।

4.अगर आपके पास धन की कमी हैं तो शनि अमावस्या के दिन किसी गरीब को कंबल दान करें।

5.धन प्राप्ति के लिए शनि अमावस्या के दिन शनिदेव को काले तिल के लड्डुओं का भोग लगांए।

शनि देव के मंत्र

1. ॐ शन्नोदेवीरभिष्टय आपो भवन्तु पीतये शन्योरभिस्त्रवन्तु न:।

2. ॐ प्रां प्रीं प्रौं स: शनैश्चराय नम:

3. ॐ ऐं ह्लीं श्रीशनैश्चराय नम:।

4. कोणस्थ पिंगलो बभ्रु: कृष्णो रौद्रोन्तको यम:।

सौरि: शनैश्चरो मंद: पिप्पलादेन संस्तुत:।।

कोई समस्या  या सवाल है तो आप आचार्य जी से संपर्क कर सकते हैं  ।

Leave a Reply