Category: ASTRO ARTICLE

घर में पूजा का नियम, कैसी मूर्ति रखें व पूजन सामग्री से जुड़ी खास बातें

घर में रखें कैसी मूर्ति : घर के मंदिर में ज्यादा बड़ी मूर्तियां नहीं रखनी चाहिए। शास्त्रों के अनुसार बताया गया है कि यदि हम मंदिर में शिवलिंग रखना चाहते हैं तो शिवलिंग हमारे अंगूठे के आकार से बड़ा नहीं होना चाहिए। शिवलिंग बहुत संवेदनशील होता है और इसी वजह से घर के मंदिर में …

Continue reading

स्वप्न शास्त्र के अनुसार सपने में धार्मिक स्थल देखने का क्या अर्थ होता है

सपने में धार्मिक स्थल देखना : सपने भविष्य का आइना होते हैं। स्वप्न शास्त्र के अनुसार सपने भविष्य में होने वाली अच्छी और बुरी घटनाओं का सूचक होते हैं। कई बार हम ऐसे सपने देखते हैं। जिसे देखकर हम बैचेन हो उठते हैं और उनका मतलब भी जानना चाहते हैं। ऐसा ही स्वप्न है धार्मिक …

Continue reading

कछुए की अंगूठी धारण करने का क्या है महत्व

ज्योतिष शास्त्र में ऐसी कई उपाय है। जिन्हें अपना कर मनुष्य अपने जीवन की सभी परेशानियों को समाप्त कर सकता है। इन्हीं में से एक उपाय है कछुए की अंगूठी को लेकर । आजकल जिसके हाथ में देखो कछुए की अंगूठी अवश्य मिलेगी । कुछ लोग तो इसे शौकिया तौर पर पहनते हैं। लेकिन क्या …

Continue reading

एकाक्षी नारियल को क्यों साक्षात लक्ष्मी का रूप माना जाता है, क्या है इसकी विशेषता

-एकाक्षी नारियल : श्री और समृद्धि देता है यह श्रीफल -धन को आकर्षित करता है एकाक्षी नारियल हमारी सनातन eपद्धति में श्रीफल अर्थात् नारियल का विशेष महत्व है। हिन्दू धर्म की कोई भी पूजा बिना श्रीफल अर्पण के पूर्ण नहीं होती। चाहे वह प्रसाद रूप में हो या भेंट के रूप में, श्रीफल का हमारी …

Continue reading

क्या होता है पंचक, इसे क्यों माना जाता है अशुभ

ज्योतिष में पंचक को शुभ नक्षत्र नहीं माना जाता है। इसे अशुभ और हानिकारक नक्षत्रों का योग माना जाता है। नक्षत्रों के मेल से बनने वाले विशेष योग को पंचक कहा जाता है। जब चन्द्रमा, कुंभ और मीन राशि पर रहता है, तब उस समय को पंचक कहते हैं।  इसी तरह घनिष्ठा से रेवती तक जो पांच …

Continue reading

नवरात्रि में घर पर विधि पूर्वक कैसे करें हवन

पुराणों के अनुसार हवन अथवा यज्ञ भारतीय परंपरा अथवा हिन्दू धर्म में शुद्धिकरण का एक कर्मकांड है। कुंड में अग्नि के माध्यम से देवता के निकट हवि पहुंचाने की प्रक्रिया को ‘यज्ञ’ कहते हैं। हवि, हव्य अथवा हविष्य वे पदार्थ हैं जिनकी अग्नि में आहुति दी जाती है (जो अग्नि में डाले जाते हैं।)   हवन …

Continue reading

कैसे अंगूठे में चांदी का छल्ला धारण करने से ग्रहों के प्रभाव से बचा जा सकता है

वैदिक ज्योतिष के अनुसार शुक्र ग्रह का संबंध भौतिक सुख-सुविधाओं, भोग-विलासपूर्ण जीवन, ऐशो-आराम, प्रेम, यौन सुख और लग्जरी लाइफ से होता है। जिस व्यक्ति की जन्म कुंडली में शुक्र ग्रह मजबूत होता है, उसे ये सब सुख आसानी से मिल जाते हैं, लेकिन जिसकी कुंडली में शुक्र खराब अवस्था में हो वह इन सुखों से …

Continue reading